Home त्योहार Holi Story in Hindi – होलिका दहन कहानी | Prahlad Katha

Holi Story in Hindi – होलिका दहन कहानी | Prahlad Katha

Holika Dahan Story

होली कब हे ? Holi Story in Hindi (होलिका दहन) 7 मार्च को है होलिका दहन का शुभ मुहूर्त शाम 06 बजकर 31 मिनट से रात 08 बजकर 58 मिनट तक रहेगा। होलिका दहन पर्व को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है। होलिका दहन के दिन – एक पवित्र अग्नि जलाई जाती है इसके अगले दिन रंगों की होली (धुलेटी ) खेली जाएगी तो आइए दोस्तों जानते आज के आर्टिकल में जानते है Prahalad Katha एवं होली का इतिहास और महत्व के बारें में !

जिसमें सभी तरह की बुराई, अहंकार और नकारात्मकता को जलाया जाता है। होली का दहन भगवान विष्णु भक्त प्रहलाद की याद में मनाया जाता है। दोस्तों पुराणों के अनुसार दानवराज हिरण्यकश्यप ने घोर तपस्या करके भगवान् ब्रह्मा को प्रसन्न किया था और ब्रह्माजी से वरदान माँगा की :

"हे ब्रह्म देव आपके बनाये हुए किसी भी प्राणी से मेरी मृत्यु न हो न मनुष्य से न पशु से न में रात में मरू न दिन में न पृथ्वी पर न आकाश में न घर में न बहार"

Holika Dahan 2023 Date and Time – होलिका दहन तारीख 2023 :

होली 2023 तारीख :बुधवार 8th March 2023
होलिका दहन 2023 तिथि :मंगलवार 7th March 2023
होलिका दहन का समय :Evening 6:24 to 8:51
फाल्गुन पूर्णिमा तिथि प्रारंभ :सोमवार 6th March 2023 4:17
फाल्गुन पूर्णिमा तिथि समाप्त :मंगलवार 7th March 2023 06:09
होलिका दहन का समय

होलिका प्रहलाद की कथा – Holika Dahan 2023

हिरण्यकश्यप को ब्रह्माजी का वरदान

भगवान् ब्रह्मा ने कठिन तपस्या के कारन उसे यह वरदान दे दिया था | वरदान प्राप्त करने के बाद हिरण्यकश्यप अपने आप को भगवान् मानने लगा चारो और हाहाकार मचा दिया

देवताओ सहित तीनो लोको के प्राणी उसके सामने नतमस्तक हो गए | उस समय सारी सृष्टि में एक नन्नासा बालक ही ऐसा था जो सिवाय विष्णु भगवान के किसी अन्य को नहीं भजता था, वो उसी दैत्य का अपना पुत्र प्रह्लाद था जो पांच वर्ष की आयु में निरंतर भगवान् विष्णु को ही भजता था हिरण्यकश्यप ने उसे समझाया डराया फिर भी वह बालक प्रभु की भक्ति से विमुख नहीं हुआ

जब हिरण्यकश्यप के कहने पर देत्योने उसे मारने कई सारे प्रत्न किये किन्तु वह निरन्तर प्रभु का नाम जाप्ता रहा जिससे दैत्य उसे मारने में असफल रहे| पहाड़ की छोटी से गिराने पर भी वह नहीं मरा |

होलिका दहन की कहानी | Holika Dahan Story

तब हिरण्यकश्यप की बहन होलिका ने कहा – मुझे वरदान मिला हे की अग्नि मुझे नहीं जला सकती में उसे मार सकती हु | तब होलिका प्रह्लाद को अपनी गोद में लेकर अग्नि में बेथ गयी किन्तु परिणाम उसके विपरीत आया अपनी शक्ति का गलत प्रयोग करने पर होलिका जलकर भस्म हो गई |

और भक्त प्रह्लाद को कुछ भी नहीं हुआ। इसी घटना की याद में इस दिन होलिका दहन करने का विधान है। होली का पर्व यह संदेश भी देता है कि इसी प्रकार ईश्वर अपने अनन्य भक्तों की रक्षा के लिए सदा उपस्थित रहते हैं

हिरण्यकश्यप का किया भगवान विष्णु ने वध | भगवान विष्णु का नरसिंह अवतार

प्रह्लाद अपने पिता से कहते हे की अभ भी समय हे अपने अहंकार को त्याग दो और भगवान् विष्णु की शरण में चले जाये भगवान् विष्णु बड़े ही दयालु हे वे क्षमा कर देंगे लेकिन अहंकार में वशीभूत हिरण्यकश्यप और ज्यादा क्रोशित हो उठते हे कहते हे कहा कहा दीखता हे तुम्हारा परमात्मा – प्रह्लाद कहते हे वे सृष्टि के कण कण में हे
हिरण्यकश्यप कहते हे इस खम्भेमें भी तुम्हारा परमात्मा हे प्रह्लाद के हां कहने पर हिरण्यकश्यप खम्बे पर प्रहार करतेहे और खम्भे में से भगवान् विष्णु का नरसिह अवतार प्रकट होता हे उसी प्रकार भगवान् विष्णु के नरसिह अवतार से हिरण्यश्यप का अंत हो जाता हे

होली का पर्व संदेश देता है कि इसी प्रकार ईश्वर अपने अनन्य भक्तों की रक्षा के लिए सदा उपस्थित रहते हैं

YouTube Video: Holika Dahan Story

Holi Wishes & Quotes In Hindi :

मथुरा की खुशबू,
गोकुल का हार
वृन्दावन की सुगंध,
बरसाने का प्यार
मुबारक हो आपको होली का त्यौहार!

राधा का रंग और कान्हा की पिचकारी
प्यार के रंग से रंग दो दुनिया सारी
ये रंग न जाने कोई जात ना कोई बोली
मुबारक हो आपको रंगों भरी होली!
Happy Holi 2023

सपनों की दुनिया और अपनों का प्यार
गालों पर गुलाल और पानी की बौछार
सुख समृद्धि और सफलता का हार
मुबारक हो आपको रंगों का त्योहार
Happy Holi !

होली पर सर्वश्रेष्ठ सुविचार – Holi WishesQuotes in Hindi

हवाओं के साथ अरमान भेजा है,
नेटवर्क के ज़रिये पैगाम भेजा है,
वो हम हैं जिसने सबसे पहले,
होली का राम-राम भेजा।
होली की बधाई आपको !

हर रंग आप पे बरसे,
हर कोई आपसे होली खेलने को तरसे;
रंग दे आपको सब इतना,
की आप रंग छुड़ाने को तरसे
वेरी हैप्पी एंड कलरफुल होली!

“लाल” रंग आप के गालो के लिए
“काला” रंग आप के बालो के लिए
“नीला” रंग आप के आँखों के लिए
“पिला” रंग आप के हाथो के लिए
“गुलाबी” रंग आप के सपनो के लिए
“सफ़ेद” रंग आप के मन के लिए
“हरा” रंग आप के जीवन के लिए
होली के इन सात रंगों के साथ
आपकी जिंदगी रंगीन हो …
इसी विश के साथ..
“हैप्पी होली”

Conclution :

दोस्तों कमेंट के माध्यम से यह बताएं कि “Holi Story in Hindi” का यह आर्टिकल आपको कैसा लगा अगर आपको यह पसंद आए तो like और दोस्तों के साथ share जरुर करें। आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए आर्टिकल लाने के लिए प्रेरित करता है | इस post को पढ़ने के लिए और आपका कीमती समय देने के लिए दिल से आप सभी का धन्यवाद!

दोस्तों भगवान् विष्णुभक्त प्रह्लाद की यह कथा पसंदआये तो कमेंट बॉक्समें “ॐ नमः भगवते वासुदेवाय” जरूर लिखे

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here